tarkeshkumarojha

Just another weblog

245 Posts

106 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14530 postid : 845545

प्रीतिभोज से पार्टी तक....!!​

Posted On: 1 Feb, 2015 हास्य व्यंग में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

प्रीतिभोज से पार्टी तक….!!​

कोई भी एेसा मौका जिसके तहत दस लोगों को दरवाजे बुलाना पड़े, पता नहीं क्यों मुझमें अजीब सी घबराहट पैदा कर देती है। कुछ साल पहले छोटे भाई की शादी में न चाहते हुए भी हमें आयोजित भोज का अगुवा बनना पड़ा। अनुभवहीन होने के चलते डरते – डरते इष्ट – मित्रों को इसके लिए आमंत्रित किया। जितने लोगों को बुलाया , उसी के अनुरूप खान – पान की व्यवस्था भी की। लेकिन डिनर वाले दिन करीब आधे लोगों ने कन्नी काट लिया। किसी ने अपनी तो किसी ने पत्नी की बीमारी का बहाना बनाया। कुछ ने बाहर होने तो कुछ ने भूल जाने की दलीलें पेश की। ढेर सारा खाना बचा देख कलेजा बैठने लगा। उस दिन ही कान पकड़ लिया कि भविष्य में एेसे किसी आयोजन से बचने का भरसक प्रयास करूंगा। क्योंकि इसे लेकर किए गए पोस्टमार्टम का यह निष्कर्ष निकला कि आजकल लोग शाकाहारी टाइप एेसी वेज पार्टिय़ों के प्रति एेसा ही रवैया रखते हैं। लेकिन सामाजिक शिष्टाचार से आखिर कोई कितने दिन भाग सकता है। कुछ साल बाद पिताश्री के स्वर्गवास पर तेरहवीं के मौके पर फिर एेसा ही आयोजन करना पड़ा, तो संयोग से वह एक खास दिन था। जिसे लोग पवित्र दिन मानते हैं। अब एेसे पवित्र दिन श्राद्ध भोज खाकर कोई पाप का भागी नहीं बनना चाहता था। लिहाजा न चाहते हुए भी हमें फिर वहीं कड़वा अनुभव निगलना पड़ा। भोजन से बचने के लिए किसी ने पूजा तो किसी ने घर में हाल में संपन्न या संभावित शादी का बहाना बनाया। हालांकि अपने साथ हमेशा एेसा नहीं था। बचपन में घर आने वाली शादियों के कार्ड की तरफ हम एेसे लपकते थे, जैसे आजकल के बच्चे स्मार्ट फोन, कंप्यूटर या टैब की ओर लपकते हैं। कार्ड खोलते ही हमारी निगाहें प्रीतिभोज वाले स्थान को ढूंढती थी। अपनी जब शादी हुई तब तक प्रीतिभोज पार्टी नहीं बन पाई थी। लिहाजा भोज में प्लानिंग या कल्पनाशीलता के लिए कोई स्थान नहीं था। भोज वाले दिन या कहें रात शेर – बकरी को एक घाट पानी पिलाने की तर्ज पर पांत में बिठा कर पत्तल पर अंगुलियों पर गिने जाने लायक चंद अाइटम ही परोसे जाते थे। मेहमान भी बड़े चाव से इसे खाते थे। खाने से ज्यादा जोर सामाजिक शिष्टाचार निभाने पर होता था। लेकिन समय के साथ देखते ही देखते जब प्रीतिभोज पार्टी में तब्दील होने लगी, तो मुझमें इसके प्रति अजीब खौफ पैदा होने लगा। सीने पर मुक्का मारने जैसे आभास देने वाले साऊंड सिस्टम के बीच असंख्य व्यंजन देख कर ही मेरा पेट भर जाया करता है। क्या खाऊं और क्या नहीं , यह सोच – सोच कर ही कई बार घर लौट आना पड़ा है। आश्चर्य होता है कि एेसे आयोजनों के प्रति लोग इतने कल्पनाशील कैसे हो जाते हैं। अब पश्चिम बंगाल के चिटफंड घोटाले में जेल पहुंच चुके एक बड़े राजनेता का ही मामला लीजिए। जनाब बीमार लोगों को अस्पताल में भर्ती करा कर विख्यात हुए और देखते ही देखते विधायक से मंत्री भी बन गए। सीबीअाई द्वारा गिरफ्तार कर जेल भेजे जाने के बाद मामले की छानबीन का यह निष्कर्ष निकला कि जनाब ने अपने बेटे की शादी के बाद दिए गए रिसेप्शन यानी प्रीतिभोज पर ही करोड़ों खर्च कर डाले। जिसे उसी चिटफंड कंपनी ने वहन किया था। उस भोज में जीम चुके जानकार बताते हैं कि उस प्रीतिभोज माफ कीजिए पार्टी में सिर्फ मिठाइयां ही 35 किस्म की रखी गई थी। सोचकर हैरत होती है कि राजनेता जैसा घाघ आदमी आखिर एेसी गलती कैसे कर सकता है। मुझे लगता है तीन पी यानी पुलिस , प्रेस और पालिटशियन समय के साथ इतने घाघ हो जाते हैं कि उचित – अनुचित का ज्ञान उन्हें सहज ही होने लगता है। लेकिन लगता है बच्चों की शादी को यादगार बनाने की धुन में अच्छे – भले लोग भी एेसे मतिभ्रम का शिकार हो जाते हैं।

इनलाइन चित्र 2

Web Title : प्रीतिभोज से पार्टी तक....!!​

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

yamunapathak के द्वारा
February 5, 2015

तारकेश जी यह ब्लॉग बहुत ही सही समय पर लिखा गया ब्लॉग है शादी विवाह की पार्टियों में भोजन बहुत बर्बाद होता है ..मैंने भी हाल में ही फब वैल्यू पेज के द्वारा यह विनती की थी की थाली प्लेट में उतना ही लें जितनी ज़रुरत है भोजन व्यर्थ ना करें इतनी बड़ी मेनू की ज़रुरत भी क्या है लोग दिखावे में ज्यादा जाते हैं .साभार


topic of the week



latest from jagran