tarkeshkumarojha

Just another weblog

238 Posts

106 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14530 postid : 1291717

अथ श्री चचा कथा ….!!

  • SocialTwist Tell-a-Friend

व्यंग्य
———–
अथ श्री चचा कथा ….!!

तारकेश कुमार ओझा
वाणिज्य का छात्र होने के नाते कॉलेज में पढ़ा था कि बुरी – मुद्रा – अच्छी मुद्र्ा को चलन से बाहर कर देती है।पेशे के नाते महसूस किया कि नई खबर – पुरानी को चलन से बाहर कर देती है। अब हाल तक मेरे गृह प्रदेश के कुछ शहरों में उत्पन्न तनाव का मसला गर्म था। एक राष्ट्रीय चैनल के मसले को उछाल देने से मामला तूल पकड़ने ही वाला था। लेकिन तभी मुख्यमंत्री के भतीजे की हुई कार दुर्घटना ने पुराने घटनाक्रमों पर मानो एक झटके में पानी डाल दिया। कुछ दिन बाद देश के सबसे बड़े सूबे में चाचा – भतीजा विवाद सुर्खियों में था। लग रहा था मानो हम कोई मेगा सीरियल देख रहे हैं। जिसमें सस्पेंस और घात – प्रतिघात से लेकर रोमांच आदि सब कुछ शामिल है। लेकिन इस बीच भोपाल में जेल से भागे कथित आतंकवादियों की मुठभेड़ में मौत की घटना ने चाचा – भतीजा प्रकरण को पीछे धकेल दिया। ऐसे में मैं सोचता हूं कि क्या भोपाल की घटना के बाद चाचा – भतीजा विवाद सच में शांत पड़ गया। या प्रचार माध्यम ने इस ओर से मुंह मोड़ लिया।
वैसे देखा जाए तो आम चचा भी एेसे ही होते हैं। भतीजा सामने आया नहीं कि शुरू हो गए, अरे पुत्तन… जरा इहां आओ तो बिटवा, सुनो जाओ फट से उहां चला जाओ.. अउर इ काम कर डाओ…। एेसे सभी चाचाओं में एक बात कामन होती है। भतीजे के बाप यानी अपने बड़े भैया की बहुत इज्जत करेंगे। उनके सामने मुंह नहीं खोलेंगे। कोई किंतु – परंतु नहीं, कोई सवाल – जबाव नहीं। लेकिन भतीजे के लिए जी का जंजाल बने रहेंगे। भतीजा चाहे जितने बड़े ओहदे पर पहुंच जाए, बात – बात पर उसकी कान उमेठने से बाज नहीं आएंगे। अभी उस दिन टेलीविजन चैनल पर एक बहुचर्चिच चाचा बयान दे रहे थे, जिसका लब्बोलुआब यही था कि … वे अक्सर भूल जाते हैं कि फलां अब मुख्यमंत्री है। क्योंकि उनकी नजर में तो बंदा वहीं मेरा बच्चा – भतीजा है। अब ऐसे बयानों से भतीजे की हालत का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। एक और प्रख्यात चाचा हैं जो उच्चस्तरीय बैठकों में बड़े – बड़े अफसरों के सामने भी अपने मुंह बोले भतीजे का घरेलू नाम लेकर पुकारते हैं। बेचारा भतीजा कई बार इस बात का शालीन विरोध कर चुका है। लेकिन चचा हैं कि मानते ही नहीं। इन चाचाओं की नजर में उनका भतीजा हमेशा बच्चा ही बना रहता है। यदि भतीजे ने चाचा से कोई सवाल – जवाब कर दिया तो शुरू हो गए… अब तुम हमका सिखइहो…। यह नहीं देखेंगे कि भतीजा अब किस ओहदे पर पहुंच चुका है। भतीजा मातहतों के साथ कोई बैठक कर रहा है, तभी चाचा की इंट्री हुई और शुरू हो गए… अरे लल्लू , तुम इहां बैइठे हो, अरे तुम ता लखनऊ जवइया रहो, नाहि गवो का…। अच्छा जाओ अपनी चाची से कह दो एक लोटा पानी पठय देएं। फिर शुरू कर देंगे एेसी बातें , जिनकी चर्चा वक्ती तौर पर कतई जरूरी नहीं। जरा चूं चपड़ की नहीं कि शुरू हो जाएंगे… बहुत बड़े हो गए हो ना… भूल गए इन्हीं कंधों पर चढ़ कर घूमा करते थे। हमार तो कोई सुनता ही नहीं…। नाराजगी का नशा इन चाचाओं पर हमेशा सवार रहता है। कुछ बोलने की कोशिश की नहीं कि झट जवाब मिलेगा… अब तुम हमका सिखइहो… ऐसे में भतीजा बेचारा परेशान तो होगा ही। असली मंशा यह दिखाने की कि कमबख्त कितना भी बड़ा हो जाए, है मेरा भतीजा और मैं इसका चाचा हूं…। आम चाचाओं की तरह सबसे बड़े सूबे में भी चाचा लोग भतीजे के साथ कुछ एेसा ही बर्ताव कर रहे हैं, तो इसमें अस्वाभाविक कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। देश में में चाहे जो हो जाए, लेकिन राजनेता भतीजों को अपने चाचाओं से तो आगे भी निपटना ही पड़ेगा…। यह आम भतीजों की घर – घर की कहानी है।

Image result for cartoon of samajwadi party drama

Web Title : अथ श्री चचा कथा ....!!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran